how to attract friends and people in hindi

How to Convince People Convincing Skills(in Hindi)

Hack to Convince People :प्रत्येक स्थान पर अपना आदर-सत्कार केसे कराया जाये।

एक बार मेरे पापा २० रूपये  में एक छोटा सा पिल्ला लेके आये  उस समय में मात्र ५ साल का था वह पिल्ला मेरे दुःख सुख का साथी था जब भी में खेल कर शाम को घर आता था वह मुझे देख कर गोली की रफ्तार से मेरी ओर दोड़ चला आता था  और मुझसे लिपट जाता था।

वह मेरा ५ साल तक  मेरा सबसे अच्छा मित्र बना रहा। एक दिन मुझसे कुछ कदमो के दुरी पर बिजली गिरने के वजह से वह मर गया में तो सन्न रह गया उसकी मौत  मेरे बचपन की सबसे दुखी कर देने वाली  घटना थी।

दोस्तों उस पिल्ले ने   कोई भी मनोविज्ञान की   किताब नहीं पड़ी थी उसे इसकी कोई आवश्कता नहीं थी मैं, तो समझता हूँ  की कुत्तो में भगवान के जरिये  कोई दिव्य सकती प्रदान है जो जानते है की किसी के दिल में कैसे  दो पल के लिए  जगह बनायीं जा सकती है

लेकिन यह  मनुष्य की बस की बात नहीं है उसे तो वर्षो लग जाते है किसी को अपना बनाने में , यह संसार एसे लोगो से भरा पड़ा है ,जो इसी प्रयास में लगे रहते है की लोग उनमे रूचि दिखायें और  इसी वजह से वह निरंतर गलतियं करे चले जाते हैं तथा  इसी प्रयास में असफल हो जा ते हैं लोगों  को न तो आप में कोई दिलचस्बी है और नहीं मुझमे वे तो स्वयें में ही है ,सुबह शाम ,दोपहर रात ,चोबिंसो घंटे

जबतक  आप किसी में रूचि नहीं लेंगे तबतक कोई आप में भी  रूचि नहीं दिखाए गा एक बार डेल कार्नेगी एक स्टेज स्पीच की तैयारी  कर रहे थे। उन्होंने अनेको बड़े लोगो को Speech देने के लिए निमंत्रण पत्र लिखा उन्होंने अपने पत्र लिखा की –

“हमे पता है की आप लोग  बोहत व्यस्त होंगे ,लेकी न हमे आप लोगों की लेखन बोहत पसंद है ओर सचमुच हमे आप के लेखन में रूचि है इसलिए हम दिल से चाहते है की हमे आपकी  सफलता  का राजबताएं ”

प्रतेक पत्र के निचे १०० बच्चो का Signature था।

यह सब उन लोगो को बहुत अच्छा  लगा और  वो लोग आपने ब्यस्त जीवन से कुछ समय निकाल के वह हमें Speech देने आये। यदि सचमुच किसी से अपना काम  करवाना चाहते है तो आप को उनकेलिए  कुछ करना होगा ऐसा कुछ कार्य जिससे वह आपको वह सालों याद रखे  मेरी कई सालो से यह आदत बन चुकी है की में अपने परिजनों के जन्म तिथि और  उनके नाम याद रखता हूँ लेकिन कैसे ?

इसके लिए में उनसे यह प्रश्न  करता हूँ की -“क्या जन्म तिथी और  व्यक्ति के स्वभाव में कोई अंतर होता है ?” ओर फिर में उनकी जन्म तिथि भी पूछ लेता हूँ अगर वे  कोई तारिक बताते हैं, तो में उसे में बाद में अपनी डायरी में लिख लेता हूँ और जब भी किसी की जन्मतिथि आती है, तो में उनकेलिए  एक पत्र या ईमेल कर देता हूँ

जिससे उनके ऊपर मेरा सकरत्मक प्रभाव पड़ता है, ओर वो लोग सोचते है की कोई तो है जिसे मेरी चिंता है।

एक बार न्यूयॉर्क  टेलीफोन कंपनी ने एक बहुत ही मजेदार सर्वे किया। उन्होंने जानना चाहा की टेलीफोन पर होने वाली बातों में  किस शब्द का सबसे ज्यादा प्रयोग किया जाता है और सर्वे से पता चला की 500 चर्चायों  में मैं…मैं….मैं..शब्द का ही 3,9,00 बार से अधिक प्रयोग किया गया था।
ठीक इसी प्रकार जबा आप कोई सामूहिक फोटो देखतें हैं,तो उसमें भी सबसे पहले अपनी ही तस्वीर खोजते हैं। यदि हम केवल लोगों को  अपनी ओर आकर्षित करने तथा स्वयं में उनकी रूचि जगाने का प्रयास करेंगे, तो आप कभी भी सच्चे मित्र नहीं बना पायेंगे।

व्हाट लाइफ शुड मिन टू यु ‘पुस्तक में वियेना के एक प्रसिद मनोवैज्ञानिक अल्फ्रेड एडलर ने लिखा है -‘जिस व्यक्ति को दुसरे लोगों में रूचि नहीं होती, उसका जीवन हमेशा कठिनाइयों से घिरा रहता है। वही आदमी दूसरों को भी सबसे अधिक नुक्सान पहुँचाता है।  इसी तरह के व्यक्ति सबसे ज्यादा असफल भी होते हैं।

Hack to Convince People by This Formula-दुसरे व्यक्तियों में सच्ची तथा वास्तविक रूचि लें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *